भाजपा ने विफलताओं को छिपाने के लिए चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील की

BJP-appeals-to-boycott-chinese products

भाजपा ने विफलताओं को छिपाने के लिए चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील की

JMKTIMES! देश के कुछ हिस्सों से ऐसी ख़बरें आ रही हैं कि वहां चीनी  (BJP appeals to boycott chinese products) सामान नष्ट हो रहे हैं, उनकी होली जलाई जा रही है। यह सब देखकर, ऐसा लगता है कि लोगों में चीन के खिलाफ बहुत गुस्सा है, क्योंकि इसने न केवल हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया है, बल्कि हमारे 20 से अधिक सैनिकों को मार दिया है।
लोगों का गुस्सा वाजिब है। कोई भी देशभक्त देश की सीमाओं के अतिक्रमण को बर्दाश्त नहीं करेगा। तब चीन यह काम पहली बार नहीं कर रहा है। 1962 की लड़ाई में, उन्होंने हमारी बड़ी जमीन पर कब्जा कर लिया।



चीन से नाराज

फिर भी, उसकी ओर से बार-बार प्रयास किए गए हैं, जो न केवल उसके विस्तारवादी इरादों को व्यक्त करते हैं, बल्कि हमारी जमीन पर कब्जा करने के इरादे को भी स्पष्ट करते हैं। चार साल पहले उन्होंने डोकलाम में ऐसा किया था और अब उन्होंने गालवन घाटी में भी ऐसा ही किया है।

चीन के प्रति हमारी नाराजगी का दूसरा कारण पाकिस्तान पर उसकी जाँच है। अंतरराष्ट्रीय मंचों में चीन लगातार उसका बचाव करता रहा है, लेकिन कई बार उसने इसे बढ़ावा देने के लिए काम भी किया है। इसलिए, यह स्वाभाविक है कि देश में इसके खिलाफ गुस्से और नफरत का माहौल होना चाहिए। लेकिन हमें यह भी देखना चाहिए कि कौन इस माहौल को भुनाने की कोशिश कर रहा है।

चीनी सामान का बहिष्कार क्यों?

 


रामदास अठावले जैसे अजेय मंत्रियों (BJP appeals to boycott chinese products)  की बात करना बेकार है। वह ‘गो कोरोना गो’ के जानकार के रूप में एक नेता हैं। चीनी खाद्य व्यंजनों का बहिष्कार करने की उनकी अपील भी हास्यास्पद है क्योंकि चीनी भोजन भारत में आया है और बंद हो गया है, जिसका अर्थ है हजारों रेस्तरां बंद करना और लाखों की बेरोजगारी।

जो लोग योजनाबद्ध तरीके से चीनी सामानों के खिलाफ अभियान को हवा दे रहे हैं वे सत्ताधारी पार्टी यानी भाजपा और उसके सहयोगी संगठन यानी संघ परिवार के हैं।

सरकार की हर तरफ से आलोचना हो रही है। न केवल विपक्षी दल बल्कि विशेषज्ञ भी उनकी आलोचना कर रहे हैं। केवल गोदी मीडिया उनके साथ है और सेना के अधिकारी उनका समर्थन कर रहे हैं, जो हिंदुत्व विचारधारा का समर्थन करते रहे हैं।

 

राजनीतिक मिशन

ऐसा नहीं है कि ये लोग देश के अन्य लोगों की  (BJP appeals to boycott chinese products)  तुलना में अधिक देशभक्त हैं, और न ही वे अपनी देशभक्ति दिखाने के लिए ऐसा कर रहे हैं। इसका एक राजनीतिक उद्देश्य है और यह है कि हमारी सरकार की विफलताओं को कैसे उजागर किया जाए।
सरकार परेशान है। उसका दिल धड़क रहा है। वह दिशाहीन दिखती है। उसे समझ नहीं आ रहा है कि चीन से कैसे निपटा जाए। चीन हर घटना के लिए भारत पर आक्रामकता और दोषारोपण से भरा है, लेकिन प्रधानमंत्री से लेकर रक्षा मंत्री तक बोलने में असमर्थ हैं।

संघ की नीति

ऐसे में अपनी सरकार को बचाने के लिए संघ परिवार आगे आया है। उन्होंने देश का ध्यान हटाने के लिए चीनी सामानों के एजेंडे को अपने हाथों में लिया है।
संघ परिवार चाहता है कि लोगों का गुस्सा सरकार से हटकर चीन में जाए, उन्हें अंधविश्वासी उन्माद में धकेल दिया जाए।
इसके लिए, चीनी सामान के बहिष्कार का अभियान बहुत आसान तरीका है। इसके लिए, देश में पहले से ही एक माहौल है, बस आग जलाने के लिए। रामदेव जैसे संघ परिवार के सदस्य इसमें घी डालते रहे हैं।

भारत-चीन सीमा तनाव पर अब अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने दिया बयान CLICK HERE

चीन को रोकने में नाकाम रही सरकार



दरअसल, इसमें कोई शक नहीं है कि सीमा पर चीन (BJP appeals to boycott chinese products)  ने जो किया है, उसके लिए प्रधानमंत्री मोदी और उनकी सरकार जिम्मेदार है। पहले, हमारी खुफिया एजेंसियां ​​सोती थीं और चीन ने 60 किलोमीटर जमीन पर कब्जा कर लिया था। तब सरकार ने बातचीत की आड़ में इसे लेकर लगातार चुप्पी साधे रखी। इसके बाद, बीस सैनिक मारे गए और अब तक उन्होंने कुछ नहीं किया है।

प्रधानमंत्री पिछले 6 वर्षों से चीन के साथ संबंधों को बढ़ाने में लगे हुए हैं। वह पांच बार चीन गए और राष्ट्रपति शी जिनपिंग को दो बार भारत आमंत्रित किया।

मोदी ने मुख्यमंत्री के रूप में चार बार चीन का दौरा किया था। वह जिनपिंग से कुल 18 बार मिल चुके हैं। मोदी उनके साथ अपने करीबी रिश्तों के बारे में बड़े ही नाटकीय ढंग से रसायन विज्ञान के बारे में बात करते रहे हैं। वी त्सांग में उनके गाँव आने का किस्सा याद है। आपको याद दिला दें कि मोदी ने एक कार्यक्रम में कहा था कि चीनी राष्ट्रपति ने उन्हें वह पुस्तक दिखाई है जिसमें वेन त्सांग ने अपने गांव का उल्लेख किया था।



हर मोर्चे पर नाकाम रहे

यह स्पष्ट है कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की (BJP appeals to boycott chinese products)  व्यक्तिगत विफलता और सरकार की सामूहिक विफलता भी है। लेकिन यह सरकार न केवल चीन के मामले में विफल रही है, ऐसा नहीं है। अब यह स्पष्ट है कि सरकार कोरोना से लेकर अर्थव्यवस्था तक हर मोर्चे पर विफल रही है और देश अनिश्चित भविष्य की ओर बढ़ रहा है।

सरकार की ये विफलताएं अब पूरे देश में चर्चा का विषय बन गई हैं। इसलिए उनके पास ध्यान हटाने और उन्हें कास्ट करने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है। संघ परिवार इस एजेंडे के तहत चीनी सामानों के लिए एक अभियान चला रहा है।

चीन को आर्थिक चोट

 

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी चीन को आर्थिक रूप से आहत करने का आह्वान कर रहे हैं।
संघ परिवार चीन के साथ आर्थिक संबंध तोड़ने या चीनी सामान के आयात को रोकने के लिए सरकार पर दबाव नहीं बना रहा है। वह यह भी नहीं कह रहा है कि जिन भारतीय कंपनियों में चीनी निवेश है, उन्हें बंद कर दिया जाना चाहिए।
यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि पिछले 6 वर्षों में, मोदी सरकार ने चीनी वस्तुओं या निवेश को रोकने या कम करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है, लेकिन इसे बढ़ाने के लिए नए समझौते किए हैं। चीनी कंपनियों को देश में बड़े अनुबंधों से सम्मानित किया गया है और उन्होंने भारत में बड़े पैमाने पर निवेश किया है।




खुद का नुकसान

चीनी सामानों के बहिष्कार के इस अभियान से, ऐसा होगा (BJP appeals to boycott chinese products)  कि कुछ लोग अपनी भावनाओं को डुबो देंगे और उन व्यापारियों को नुकसान होगा जो चीनी सामान बेचकर अपना परिवार चलाते हैं। राजनीति करने वाले नेताओं का कुछ नहीं बिगड़ेगा, लेकिन उनकी राजनीति चमक जाएगी।

आर्थिक विशेषज्ञ बताते हैं कि चीनी वस्तुओं और निवेश का पूर्ण बहिष्कार संभव नहीं है और न ही यह देश के हित में होगा। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि हमारे पास उनका विकल्प नहीं है।

चीनी सामान सस्ता है, इसलिए कई लोग उन्हें खरीद सकते हैं। निम्न स्थिति वाले लोग अन्य देशों के उत्पादों को खरीदने की क्षमता नहीं रखते हैं।

वैसे भी, यह अभियान लंबे समय तक नहीं चलेगा। लेकिन यह सुनिश्चित है कि इसके पीछे की राजनीति सफल हो सकती है। इसलिए अपने विवेक का उपयोग करें, भावनाओं से दूर न जाएं। स्वदेशी अच्छी है लेकिन जानबूझकर मूर्खता बहुत बुरी है।



 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

//graizoah.com/afu.php?zoneid=3493311