सौंदर्य के देवता पर corona का कहर

Corona-on-Venus

सौंदर्य के देवता पर corona का कहर

 

JMKTIMES! इन दिनों पूरी दुनिया को कोरोनोवायरस (Corona on Venus) का दंश झेलना पड़ रहा है। कोरोना से 15 मिलियन से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं। पृथ्वी के अलावा, कोरोना भी दूसरे ग्रह पर कहर बरपा रहा है। हालांकि, इस कोरोना का वायरस से कोई लेना-देना नहीं है। वास्तव में, मैरीलैंड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने पृथ्वी के सबसे करीबी ग्रह शुक्र ग्रह पर 37 ज्वालामुखी द्रव्यमानों का पता लगाया है। जिन्होंने हाल ही में विस्फोट किया है।




ये सभी ज्वालामुखी विस्फोट (Corona on Venus) अभी भी काफी हद तक समाप्त हो रहे हैं और इन विस्फोटों के कारण सतह पर कोरोने  या कोरोना जैसी संरचनाएं बन गईं। यहाँ कोरोना जैसी संरचना का मतलब है गोल घेरे जो बेहद गहरे और बड़े होते हैं। शुक्र के अंदर इन वृत्तों की गहराई बहुत गहरी है।



हाल ही में, ज्वालामुखी का लावा इन वृत्तों से निकला। अभी उनमें से गर्म गैस निकल रही है। इसके साथ ही ज्वालामुखीय लावा ग्रह के कोरोना गड्ढे में बह रहा है। ये 37 ज्वालामुखी ज्यादातर शुक्र के दक्षिणी गोलार्ध पर स्थित हैं।



इस घटना तक, वैज्ञानिकों का मानना था कि शुक्र की विवर्तनिक प्लेटें शांत हैं। लेकिन इस घटना ने सब कुछ झूठ में बदल दिया। ये ज्वालामुखी विस्फोट (भूकंप) भूकंप का कारण बन रहे हैं। टेक्टोनिक प्लेट्स लगातार बढ़ रही हैं।




इन सभी ज्वालामुखी विस्फोटों का वर्णन नेचर जियोसाइंस में प्रकाशित एक रिपोर्ट में किया गया है। साथ ही, इस शोध में शामिल इंस्टीट्यूट ऑफ जियोफिजिक्स के वैज्ञानिक एना गुलेर ने कहा कि शुक्र भौगोलिक रूप से शांत नहीं है। कभी नहीं था। न ही इसके बने रहने की संभावना है।



 

विदेश से बिना जांच आ रहे यात्री निकल रहे कोरोना पॉजिटिव

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

//graizoah.com/afu.php?zoneid=3493311