10 Ways precautions of coronavirus-jmktimes

Coronavirus-Precautions

10 Ways precautions of coronavirus-jmktimes

 

HEALTH-JMKTIMES! कोरोना  को लेकर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की (Coronavirus Precautions)  भ्रांतियां फैलायी जा रही हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने लोगों को इनसे सतर्क रहने की अपील करते हुए कुछ मिथकों को दूर करने की कोशिश की है।

कोरोना वायरस गर्म और उमस भरे वातावरण में फैलता है

वायरस के लिए जरूरी नहीं कि गर्म और उमस भरा वातावरण हो, यह किसी भी वातावरण में फैल सकता है। सबसे जरूरी है कि सफाई पर ध्यान दें और नियमित तौर पर हाथ धोएं।

ठंडी या बर्फ में कोरोना वायरस नहीं मरता

कोई भी वायरस तभी खत्म होता है जब उसके अनुकूल वातावरण न मिले। बर्फ से वायरस के मरने की बात कोरी कल्पना है। इंसान के शरीर का तापमान बाहरी वातावरण से ज्यादा प्रभावित नहीं होता।

सैलाइन से नाक साफ करें तो बच जाएंगे

अभी तक ऐसे सबूतनहीं मिले हैं जिससे पता चले की सैलाइन (एक तरह का द्रव्य) से नाक साफ करने पर आपको कोरोना के संक्रमण से निजात मिलेगी।

गर्म पानी में नहाने से कोरोनावायरस नहीं फैलता

कोरोना वायरस गर्म पानी में भी जीवित रह सकता है। जब(Coronavirus Precautions) आप नहाते हैं तो उस समय शरीर का तापमान 36.5 से 37 डिग्री सेल्सियस रहता है। इसलिए भूल जाइए कि गर्म पानी में नहाने से कोरोना नहीं फैलता।

 

लहसुन खाने से संक्रमण नहीं होगा

लहसुन में कई एंटी माइक्रोबियल तत्व होते हैं लेकिन अभी तक ऐसे प्रमाण नहीं मिले हैं, जिससे यह पता चले कि लहसुन खाने से लोग कोरोना वायरस से बच सकते हैं। हां, इससे खाने से आप सेहतमंद जरूर रह सकते हैं क्योंकि कई अच्छे तत्व होते हैं।

कोरोना पकडने में थर्मल स्कैनर कारगर

थर्मल गन या थर्मल स्कैनर शरीर के बढ़े हुए तापमान को बिना छुए बता देते हैं। इससे सिर्फ यह पता चल सकता है कि शरीर का तापमान ज्यादा है आप संक्रमित हो सकते हैं। इससे यह पता नहीं चलता कि वायरस का संक्रमण हैं या नहीं।

निमोनिया की वैक्सीन वायरस से बचा लेगी

कोरोना वायरस पूरी तरह से अलग है। अभी तक इसकी दवा खाजी नहीं गई है। निमोनिया की वैक्सीन जैस-दमोकोकल वैक्सीन और हीमोफिलस इनन्जा टाइप बी वैक्सीन से इसका इलाज नहीं हो सकता।

अल्कोहल या क्लोरीन छिड़काव से राहत मिलेगी

बिल्कुल नहीं, अल्कोहल या क्लोरीन सिर्फ शरीर के ऊपर सफ़ाई करते है जबकि कोरोना वायरस शरीर के अंदर जाकर बीमार बनाता है। यह सिर्फ शरीर दर जाने वाली दवाइयों से ठीक हो सकता है। यह सिर्फ बचाव का तरीका है लेकिन शरीर की बाहरी त्वचा के लिए।

 अल्ट्रावायलेट लैंप से मर जाएगा वायरस

कोरोना पूरी तरह से अलग है। अभी इसकी दवा खोजी नहीं गई है। निमोनिया की वैक्सीन जैसे-न्यूमोकोकल वैक्सीन व हीमोफिलस इनफ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन से इलाज नहीं हो सकता।

ALSO RAED TREATMENT OF CORONAVIRUS

ALSO READ Coronavirus Disease 2019 (COVID-19)

ALSO READ NO TOUCHING YOUR FACE-COVID 19

एंटीबॉयोटिक्स से ठीक हो जाएगा हकीकत

एंटीबॉयोटिक्स सिर्फ बैक्टीरिया को मारती हैं वायरस को नहीं। एंटीबॉयोटिक्स का उपयोग कोरोना के लिए नहीं किया जाना चाहिए, क्योंकि कोविड 10 नया वायरस है।

कुछ अहम सवाल-जवाब

कोरोना के लक्षण कितने दिनों में दिखते हैं ?

इसके लक्षण सामने आने में पांच दिनों का समय लगता है लेकिन कुछ लोगों में इसके लक्षण दिखने में इससे ज़्यादा वक्त भी लग सकता है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक,संक्रमित व्यक्ति को 14 दिन अलग रखा जाता है।

ठीक होने वाला व्यक्ति क्या फिर संक्रमित हो सकता है?

संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने पर फिर संक्रमण संभव है। इसलिए बचाव की सलाह दी जाती है।

अस्थमा के मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक?

हमारी सांस लेने की प्रणाली में किसी भी तरह का संक्रमण, वो चाहे कोरोना वायरस ही क्यों न हो, अस्थमा की तकलीफ बढ़ा सकता है।

क्या फोन-लैपटॉप से भी संक्रमण हो सकता है?

फोन-लैपटॉप अगर कोरोना संक्रमित व्यक्ति छूता है और फिर उसे आप छूते हैं तो संक्रमण होना संभव है।

 

 

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

//graizoah.com/afu.php?zoneid=3493311